बम धमाकों की चौतरफा निंदा

अमेरिका, वाशिंगटन:  अफगानिस्तान के काबुल हवाई अड्डे पर हुए विस्फोटों में अमेरिका के 12 नागरिक मारे गए हैं और करीब 15 लोग घायल हुए हैं। इस हमले के बाद अमेरिकी के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने एक बयान के जरिए राष्ट्रपति जो बाइडेन पर निशाना साधा है।

उन्होंने कहा कि काबुल हवाई अड्डे पर जो त्रासदी हुई उसे होने नहीं देना चाहिए था। उन्होंने बचाओ अभियान पर बाइडेन सरकार की नीतियों पर भी सवाल उठाए हैं। इस बीच आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट ने काबुल हवाई अड्डे पर हुए दो बम विस्फोटों की जिम्मेदारी ली है।अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड जे ऑस्टिन ने हमलों में मारे गए लोगों के परिजनों के लिए अपनी शोक संवेदना जाहिर की है।

साथ ही उन्होंने कहा है कि हम इससे अपने बचाओ अभियान से पीछे नहीं हटेंगे। काबुल स्थित अमेरिकी दूतावास ने अपने नागरिकों के लिए सुरक्षा अलर्ट जारी किया है। दूतावास ने अमेरिकी नागरिकों से एयरपोर्ट की यात्रा न करने की सलाह दी है। गौरतलब है कि कल शाम हामिद करजई अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर हुए दो शक्तिशाली बम विस्फोटों में अब तक कम से कम 72 लोगों के मारे जाने की बात सामने आई है।

पेंटागन के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने कहा कि एक धमाका हवाईअड्डे के प्रवेश द्वार के पास हुआ, जबकि दूसरा एक होटल से कुछ दूरी पर हुआ। दूसरी तरफ संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने काबुल हवाईअड्डे पर हुए आतंकवादी हमले की निंदा की और कहा कि यह घटना अफगानिस्तान के जमीनी हालात की अस्थिरता को दर्शाती है।