पंजाब के बाद अब राजस्थान कांग्रेस की आग को ठंडा करने में जुटी पार्टी आलाकमा

राजस्थान, जयपुर : कांग्रेस पार्टी हाईकमान अब पंजाब के बाद राजस्थान की राजनीति में मची बवाल को शांत करने के लिए सक्रिय हो गया है।

दो धड़ों में बंट चुके अशोक गहलोत और सचिन पायलट के समर्थकों को मनाने के लिए बीच के रास्ते निकालने पर कवायद जारी है। इसी में उठापटक के बीच ही कांग्रेस के वरिष्ठ नेता केसी वेणुगोपाल और अजय माकन जयपुर में रह कर लगातार बैठकें कर रहे हैं।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पार्टी दोनों नेताओं के बीच आलाकमान ने सुलह का फॉर्मूला तैयार कर लिया है।

फॉर्मूला के तहत सचिन पायलट को दिल्ली लाने की तैयारी है तो वहीं बागी विधायकों को मुख्यमंत्री गहलोत की कैबिनेट में महत्वपूर्ण जगह मिल सकती हैं। इस बीच राजस्थान कैबिनेट में अगस्त के पहले या दूसरे हफ्ते में बड़े फेरबदल होने की संभावना है।

पार्टी हाईकमान लंबे समय से चले आ रहे आपसी खींचतान को खत्म करना चाहती है। आला नेताओं का मानना है कि राज्य में पार्टी की अंदरूनी कलह से पार्टी की छवि को नुकसान हुआ है।

अगर इसका जल्द से जल्द कोई समाधान नहीं किया गया तो आने वाले समय में इसके विपरीत असर पार्टी पर पड़ सकती है। इसलिए राष्ट्रीय नेताओं ने सचिन को केंद्र की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी और बागी विधायकों को कैबिनेट में जगह देकर मामले को शांत कहना चाहती है।