असम कैबिनेट ने ओरांग राष्ट्रीय उद्यान से हटाया राजीव गांधी का नाम

असम, गुवाहाटी:  असम के मुख्यमंत्री डॉ. हिमंत विश्व शर्मा की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। गुवाहाटी के कोइनाधोरा राज्य अतिथिशाला में आयोजित बैठक में आदिवासी और चाय जनजाति समुदाय की मांगों का संज्ञान लेते हुए कैबिनेट ने राजीव गांधी राष्ट्रीय उद्यान का नाम बदलकर ओरंग राष्ट्रीय उद्यान करने का निर्णय लिया है।

गौरतलब है कि इससे पहले केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने खेल रत्न से राजीव गांधी का नाम हटाकर हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के नाम पर रखने की घोषणा की थी। बैठक में अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी चैंपियन जमुना बोरो और अंतरराष्ट्रीय तीरंदाजी चैंपियन संजय बोरो को आबकारी निरीक्षक नियुक्त करने का फैसला किया है। उन्हें 3 सितंबर को अर्जुन अवार्ड विजेता भोगेश्वर बरुआ के जन्मदिन पर नियुक्ति पत्र दिया जाएगा।

मंत्रिपरिषद ने डॉ. संबुद्ध धर को सिलचर मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में न्यूरोसर्जन नियुक्त करने का निर्णय लिया है। ओरुनोदोई योजना के तहत लाभार्थियों को राशि वितरित करने के लिए प्रशासनिक सुधार के एक भाग के रूप में कैबिनेट ने एफओसी प्रणाली को समाप्त करने का निर्णय लिया। कैबिनेट ने 660 करोड़ रुपये की मंजूरी दी। इस राशि को जिला उपायुक्त महामारी के प्रबंधन के लिए कोविड व्यय के रूप में खर्च किया जा सकेगा।

इसके अलावा प्रार्थना योजना के तहत कैबिनेट ने कोविड से मरने वालों में से 6.5 हजार लाभार्थियों (परिजनों के निकट) को एकमुश्त 1 लाख रुपये का अनुदान देने का फैसला किया है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती 2 अक्टूबर को प्रत्येक जिले के संरक्षक मंत्री लाभार्थियों को राशि सौंपेंगे।