असम में बाढ़ से मरने वालों की संख्या हुई सात

असम, गुवाहाटी : असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) ने एक आधिकारिक रिपोर्ट में कहा कि कामरूप और मोरीगांव जिलों में आज दो बच्चों की दर्दनाक मौत के बाद असम में बाढ़ से मरने वालों की संख्या बढ़कर सात हो गई है। पिछले 24 घंटों में 21 जिलों में 4,92,818 लोग बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं।

4,92,818 लोगों में से 1,86,116 पुरुष, 1,66,083 महिलाएं और 1,40,619 बच्चे हैं। एएसडीएमए की रिपोर्ट में कहा गया है कि लगभग 39606.03 फसल क्षेत्र (हेक्टेयर में) और 5,42,667 जानवर भी प्रभावित हुए हैं। बचाव कार्य के लिए करीब 14 मेडिकल टीमों को तैनात किया गया है। नावों से 911 लोगों और 260 जानवरों को सुरक्षित बाहर निकाला गया है। बरपेटा, बोंगाईगांव, चिरांग, धेमाजी, गोलपारा, गोलाघाट, जोरहाट, कामरूप महानगर, लखीमपुर, माजुली, मोरीगांव, नागांव जिलों में 105 राहत शिविरों में कुल 4,169 लोगों ने शरण ली है।

असम के आठ जिलों कछार, चिरांग, दरंग, धेमाजी, ग्वालपाड़ा, गोलाघाट, लखीमपुर और नगांव में 26 सड़कों का एक खंड बाढ़ के कारण क्षतिग्रस्त, बह गया या जलमग्न हो गया है। दरंग जिले में बाढ़ के कारण कम से कम दो पुल क्षतिग्रस्त हो गए हैं। बरपेटा, विश्वनाथ, बोंगाईगांव, चिरांग, धुबरी, डिब्रूगढ़, मोरीगांव, सोनितपुर, उदलगुरी जिलों में भी भारी कटाव हुआ है।