उत्तर प्रदेश में एक बार फिर योगी के हाथ में होगी कमान

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश में लखीमपुर कांड पर मचे बवाल के बीच योगी सरकार के लिए अच्छी खबर है। अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर एबीपी न्यूज सी-वोटर के सर्वे में जनता ने एक बार फिर से भाजपा पर भरोसा जताया है। यूपी में विधानसभा का चुनाव अगले साल की पहली तिमाही में होने वाला है, इससे पहले ताजा सर्वे के नतीजे बताते हैं कि यूपी में फिर से बीजेपी को सत्ता मिल सकती है। यूपी के लोगों का सीएम योगी पर भरोसा बरकरार है। हालांकि, सीटों की संख्या कुछ घटती दिख रही है। सितंबर और अक्टूबर के सर्वे की तुलना करें तो भले ही उत्तर प्रदेश में भगवा पार्टी जीत हासिल करती दिख रही हो, मगर एक महीने में भाजपा के ग्राफ में गिरावट देखी गई है। हालांकि, सपा को फायदा होता दिख रहा है।

एबीपी न्यूज सी-वोटर के सर्वे के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में भाजपा को 41 फीसदी वोट हासिल हो सकता है, जबकि समाजवादी पार्टी के खाते में 32 फीसदी, बहुजन समाज पार्टी के खाते में 15 फीसदी, कांग्रेस को 6 फीसदी और अन्य के खाते में 6 फीसदी वोट जा सकते हैं। सीटों के लिहाज से अगर देखें तो भाजपा के खाते में 241 से 249 सीटें जा सकती है। समाजवादी पार्टी के हिस्से में 130 से 138 सीटें आ सकती है। जबकि बसपा 15 से 19 के बीच और कांग्रेस 3 से 7 सीटों के बीच सिमट सकती है। सितंबर के पहले सप्ताह में एबीपी न्यूज सी-वोटर के सर्वे के अनुसार, उत्तर प्रदेश में बीजेपी को 259 से 267 सीटें मिलती दिखी थी, वहीं अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी को 109-117 सीटें मिलती दिखी थी।

बीएसपी को 12-16 सीटें, कांग्रेस को 3-7 सीटें और अन्य को 6-10 सीटें मिलती दिखी थी। वहीं, वोट प्रतिशत की बात करें तो बीजेपी गठबंधन को करीब 42 फीसदी, समाजवादी पार्टी गठबंधन को 30 फीसदी, बहुजन समाज पार्टी को 16 फीसदी, कांग्रेस को 5 फीसदी और अन्य को 7 फीसदी वोट शेयर हासिल होने की उम्मीद जताई गई थी। अगर सितंबर के सर्वे और अक्टूबर के सर्वे की तुलना करें तो भाजपा को करीब 18-20 सीटों का घाटा होता दिख रहा है।

हालांकि, वोट फिसदी में बहुत बड़ी गिरावट नहीं है। एक महीने में महज एक फीसदी की मामूली गिरावट देखी गई है। वहीं, सपा को इस एक महीने में 20 ,सीटों का फायदा होता दिख रहा है। अगर वोट फीसदी की बात करें तो सपा को दो फीसदी का फायदा होता दिख रहा है।

मौजूदा सर्वे में भाजपा को 241 से 249 सीटें मिलती दिख रही है। यानी भाजपा को करीब 75 से 80 सीटों का घाटा होता दिख रहा है। वहीं, सपा को करीब सौ सीटों का फायदा होता दिख रहा है। बता दें कि 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 325 और सपा को 48 सीटें मिली थीं। बसपा को 19 और कांग्रेस को सात सीटें हासिल हुईं थीं।