असम में बाढ़ से 2.25 लाख से अधिक लोग प्रभावित

असम, गुवाहाटी:  असम के पंद्रह जिलों में 2.25 लाख से अधिक लोगों के प्रभावित होने से बाढ़ की स्थिति और खराब हो गई है। इस साल आई बाढ़ से प्रभावित लोगों में करीब 39,000 बच्चे शामिल हैं। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) के अनुसार ताजा आई बाढ़ में 16,000 हेक्टेयर से अधिक कृषि भूमि नष्ट हो गई है।

15 जिलों के कम से कम 512 गांव बाढ़ के पानी की चपेट में हैं। बाढ़ से लखीमपुर, माजुली, धेमाजी, बोंगाईगांव, डिब्रूगढ़ और तिनसुकिया सबसे ज्यादा प्रभावित जिलों में शामिल है। पंद्रह बाढ़ प्रभावित जिलों में कुल 62 राहत शिविर स्थापित किए गए हैं। एएसडीएमए की ओर से जारी आधिकारिक बयान में कहा गया है कि कई जिलों में बाढ़ के पानी से कई सड़कें, पुल, तटबंध, पुलिया और अन्य बुनियादी ढांचे को नुकसान पहुंचा है।

अधिकांश प्रभावित जिलों से होकर बहने वाली नदियां ऊपर उठ रही हैं और कई स्थानों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। गौरतलब है कि राज्य के बाढ़ का प्रकोप का असर काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में भी देखने को मिल रहा है। कृषि मंत्री अतुल बोरा ने बाढ़ प्रभावित उद्यान का दौरा कर इसका जायजा भी लिया। बाढ़ का असर गुवाहाटी समेत सभी प्रमुख शहरों में देखा जा रहा है। डिब्रू सैखोवा राष्ट्रीय उद्यान भी बाढ़ की चपेट में आने से नहीं बच पाए हैं।